जोधपुर में संत आसाराम बापू के बचाव पक्ष ने किए सनसनीखेज खुलासे...

आसाराम बापू ..अंतिम बहस में कई खुलासे हुए...

आरपी बोहरा.अनुसूचित जाति जनजाति के विशिष्ट न्यायाधीश मधुसूदन शर्मा की अदालत में चल रहे तथाकथित फ़र्ज़ी मुकदमे में संत आसाराम बापू जी  के मामलें में शुक्रवार को बचाव पक्ष की ओर से चल रही अंतिम बहस में कई खुलासे हुए। 

संत आसाराम बापू के अधिवक्ता सज्जनराज सुराणा ने कहा कि एएसआई पुष्पलता जो पुलिस हेल्पलाईन की प्रभारी थी, उसने प्रथम सुचना रिपोर्ट कैसे लिखी, उसे यह अधिकार ही नहीं था, हेल्पलाईन रजिस्टर के कुछ पन्ने फाड़ दिये गए इस तरह पुष्पलता ने पीडि़ता की माँ तथा अन्य से मिलकर षडयंत्र पूर्वक उनके मुवक्किल को झूठा फसाया है। 

महिला पुलिस अधिकारी ने मजिस्ट्रेट के आदेश के बिना ही पीडि़ता का गैरकानूनी तरीके से दो बार मेडिकल करवा दिया, बिना उचित कारण एफआईआर को स्वयं के पास रोके रखा। अधिवक्ता सुराणा ने कहा कि इस तरह से पूरा मामला ही मनगढ़ंत तथा बेबुनियाद है।

सक्षम अधिकारी ने नहीं ली रिपोर्ट

एएसआई पुष्पलता को पाँस्को एक्ट तथा भारतीय दण्ड प्रक्रिया संहिता के तहत प्रथम सुचना रिपोर्ट लेने का अधिकार नहीं था। अधिवक्ता सुराणा ने कहा कि एफआईआर के सम्बन्ध में इस प्रकार की कई खामियाँ है जो यह स्पष्ट करती है कि पूरा मामला संदिग्ध है।

अंतिम बहस के दौरान सरकार की ओर से नियुक्त विशिष्ट लोक अभियोजक पोकरराम विश्नौई तथा पीडि़ता के वकील प्रमोदकुमार वर्मा उपस्थित थे।

Comments

Write a Comment

Related Articles